फैशन डिजाइनर कैसे बनें पूरी जानकारी - Technology Solution - Technology Hindi Solution

आपको यहॉ Computer Tricks In Hindi, Computer Learning Blog In Hindi, Seo Tips In Hindi, Internet, Phone, Facebook, Android, Computer Tips And Tricks In Hindi, Best How To Article In Hindi, Ms Word, Ms Excel, Technology News In Hindi, Learn Hindi Typing, Google Seo Tips In Hindi,hacking trick,computers hacking ,mobile hacking ,hacking tools use ,Technology ,nono Technology , Facebook Tricks In Hindi ,tech news in hindi जो आपके कम्प्यूटर ज्ञान को बढाने में सहायक हो सकते हैं

New Post

Wednesday, August 15, 2018

फैशन डिजाइनर कैसे बनें पूरी जानकारी - Technology Solution

i am parthik thakur 

welcome to technogloy  website

क्या आप फैशन डिजाइनर(Fashion Designer) बनना चाहते हैं? यदि हां, तो यह Article आपकी help करेगा. इस step by step कैरियर गाइड को फैशन डिजाइनिंग उम्मीदवारों के मन को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है. यह आलेख इस विषय पर केंद्रित है की – भारत में फैशन डिजाइनर कैसे बनें?

फैशन डिजाइन कपड़ों और उनके सहायक चीजों को डिजाइन करने की कला है. फैशन डिजाइनर स्केच करके डिज़ाइन की योजना बनाते है.फैशन डिजाइनिंग सिर्फ कपड़ों की बुनाई तक ही सीमित नहीं है! फैशन डिजाइनर फैशन trends पर शोध करते हैं. वे नवीनतम रुझानों पर ध्यान देते हैं और अपने दर्शकों की जरूरतों को पूरा करते हैं.
फैशन डिजाइनरों द्वारा किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण कार्य यहां दिए गए हैं –
  • नवीनतम फैशन प्रवृत्तियों पर अनुसंधान करना (Research on latest fashion trends)
  • उपभोक्ता व्यवहार पर शोध करना (Research on consumer behavior)
  • डिजाइनिंग, स्केचिंग और योजना बनाना (Designing, sketching and planning)
  • सिलाई करना (Tailoring)
  • क्रय-विक्रय करना (Merchandising)
फ़ैशन डिज़ाइनर जो अन्य काम भी करते है उनको किराए पर लेना असामान्य बात नहीं है, ऐसे कुछ पेशेवर जो फैशन डिजाइनर के तहत काम करते हैं वो निचे दिए गए है –
  • तकनीकी डिजाइनर(Technical designer)
  • पैटर्न निर्माता(Pattern maker)
  • दर्जी(Tailor)
  • कपड़ा डिजाइनर(Textile designer)
  • स्‍पष्‍टकर्ता(Illustrator)
  • ड्रेसमेकर (Dressmaker)
फैशन डिजाइनर कपड़े की सामग्री, रंग, परिधान संयोजन, बनावट, पैटर्न बनाने, फैशन के रुझान, बुनाई और सिलाई तकनीक, सिलाई उपकरण, फैशन की खुदरा बिक्री और व्यापार आदि के बारे में जानकारी रखते हैं.
एक धारणा है कि इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए रचनात्मक होना जरुरी है. हां, इस क्षेत्र में रचनात्मकता आगे बढ़ने के लिए एक आवश्यक चीज है. लेकिन इसके साथ-साथ फैशन डिजाइनिंग से संबंधित professional course करना भी आवश्यक होता  है!
यहां इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए आवश्यक कुछ गुण(qualities ) दिए गए हैं –
  • रचनात्मकता(Creativity)
  • तकनीकी ज्ञान (कपड़ा डिजाइनिंग, वस्त्र आदि)(technical knowledge (textile designing, garments etc))
  • अच्छा सिलाई कौशल(Good tailoring skills)
  • अच्छा ड्राइंग कौशल(Good drawing skills)
  • अच्छी आँखें(Eye for detail)
  • नवीनतम फैशन प्रवृत्तियों में गहरी रूचि(Keen interest in latest fashion trends)
  • अच्छा व्यापार कौशल (व्यापार, लागत प्रबंधन, लेखांकन आदि)(Good business acumen (merchandising, cost management, accounting etc))
  • नेटवर्किंग कौशल(Networking skills)
कुछ लोग कह सकते हैं कि किसी भी professional course से गुजरे बिना फैशन डिजाइनर बनना संभव नहीं  है. लेकिन औपचारिक प्रशिक्षण निश्चित रूप से इस क्षेत्र में insights प्राप्त करने में मदद करेगा किन्तु औपचारिक प्रशिक्षण एक पुरस्कृत करियर बनाने में भी मदद नहीं कर पायेगा.
फैशन डिजाइनिंग पाठ्यक्रम तीन मुख्य प्रारूपों में उपलब्ध हैं. भारत में डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स उपलब्ध हैं.

भारत में फैशन डिजाइनर कैसे बने(STEPS TO BECOME A FASHION DESIGNER IN INDIA)

मैं अपने पाठकों को एक अच्छा स्नातक डिग्री या डिप्लोमा पाठ्यक्रम करने का सुझाव दूंगा. ऐसे पाठ्यक्रम एक अच्छी नौकरियां पाने में मदद करेंगे. इसके अलावा, इन पाठ्यक्रमों का पालन करने के बाद, उच्च शिक्षा (उन्नत पाठ्यक्रम) के लिए जाना अपेक्षाकृत आसान होगा.

1)फैशन डिजाइन कोर्स का चयन करें(CHOOSE A RELEVANT FASHION DESIGNING COURSE)

पहला कदम एक relevant फैशन डिजाइनिंग कोर्स चुनना है. भारत में कुछ बेहतरीन डिग्री और डिप्लोमा फैशन डिजाइनिंग पाठ्यक्रम यहां दिए गए हैं –
  • Bachelor of Fashion Technology
  • Bachelor of Fashion Design
  • Bachelor of Design (B.Des.) Fashion Design
  • Bachelor of Design (B.Des.) Leather Design
  • Bachelor of Design (B.Des.) Textile Design
  • Bachelor of Design (B.Des.) Accessory Design
  • Bachelor of Design (B.Des.) Fashion Communication
  • Bachelor of Design (B.Des.) Knitwear Design
  • Bachelor Degree in Retail and Fashion Merchandise
  • Diploma in Fashion Technology
  • Diploma in Fashion Design
  • Diploma in Apparel Design
  • Diploma in Jewellery Design
  • Diploma in Fashion Photography
  • Diploma in Retail Merchandising
  • Diploma in Leather Design
  • Diploma in Textile Design
  • Diploma in Visual Merchandising

2)पात्रता मानदंड पूर्ण करे (SATISFY THE ELIGIBILITY CRITERIA)

प्रत्येक पाठ्यक्रम का अपना पात्रता मानदंड होता है. प्रवेश सुरक्षित करने के लिए, आपको उस विशेष पाठ्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए अकादमिक रूप से योग्य होना चाहिए. उपरोक्त वर्णित कुछ पाठ्यक्रमों के मामलों में 10 + 2 पास पात्रता मानदंड है. योग्यता मानदंड एक कोर्स से दूसरे में भिन्न हो सकते हैं.

3)सुरक्षित प्रवेश(SECURE ADMISSION)

प्रतिष्ठित संस्थान मेरिट आधारित प्रवेश प्रक्रिया पर भरोसा करते हैं. योग्य उम्मीदवारों को प्रवेश परीक्षा / बोर्ड परीक्षा / दोनों के संयोजन में उनके द्वारा बनाए गए अंकों के आधार पर सीट आवंटित की जाती है.
यहां कुछ प्रासंगिक फैशन डिजाइनिंग प्रवेश परीक्षाएं दी गई हैं –
  • NIFT Entrance Exam
  • Pearl Academy Entrance Exam
  • NID Entrance Exam
  • CEED
  • UCEED
  • AIEED
  • SOFT
  • IICD

4)अकादमिक कार्यक्रम पूरा करें( COMPLETE THE ACADEMIC PROGRAM)

फैशन डिजाइनिंग पाठ्यक्रम में कक्षा व्याख्यान(Class Lecture) और व्यावहारिक (Practical) ज्ञान का समग्र मिश्रण होता है.

विकास संभावना(CAREER PROSPECTS)

फैशन डिजाइनरों के सामने पर्याप्त नौकरी के अवसर उपलब्ध हैं. कुछ प्रमुख भर्ती कर्ता निम्न  हैं –
  • Apparel manufacturing firms
  • Clothing manufacturing firms
  • Fashion retailers
  • Government handloom departments
  • TV and Film production houses
उद्यमिता(Entrepreneurship) भी फैशन डिजाइनरों के सामने एक उत्कृष्ट अवसर उपलब्ध करता है. वे एक स्वतंत्र फैशन डिजाइनर, परामर्शदाता, ड्रेसमेकर या खुदरा विक्रेता के रूप में काम कर सकते हैं.
तो दोस्तों आपको हमारा यह पोस्ट फैशन डिजाइनर(Fashion Designer) कैसे बनें ? की जानकारी कैसी लगी comment के द्वारा जरुर बताये और इसे अपने social media एकाउंट्स में शेयर जरुर करे.

No comments:

Post a Comment