Click here to the Cookie consent Prem Rawat Maharaj Ji का जीवन परिचय Biography in हिंदी - Technology Hindi Solution - Technology Hindi Solution

आपको यहॉ Computer Course all book ,Computer Tricks, Computer Learning, Blogging Tricks,Seo Tips, Internet, SmatPhone, Facebook, Android, Computer Etc Tips And Tricks, Best How To Article trick, Ms Word, Ms Excel, Technology News, Learn Hindi Typing, Google Seo trick,hacking trick,computers hacking ,mobile hacking ,hacking tools use ,Technology ,nono Technology , Facebook,tech news, सब कुछ आपको हिंदी में मिलेगा जो आपके कम्प्यूटर ज्ञान को बढाने में सहायक हो सकते हैं

New Post

Thursday, November 1, 2018

Prem Rawat Maharaj Ji का जीवन परिचय Biography in हिंदी - Technology Hindi Solution

i am parthik thakur 

welcome to technogloy  website

Maharaj Ji Ka Jivan Parichay Biography in Hindi ( प्रेम रावत महाराज जी का जीवन परिचय बायोग्राफी हिंदी में (jivan Kahani )

                                          
Biography of  Prem Rawat Maharaj in Hindi Prem Rawat Maharaj biography in Hindi शांति प्राप्त करने के लिए मनुष्य बाहर तो सब कुछ करने के लिए तैयार है परंतु मेरा यह कहना है कि “जिस शांति की मनुष्य को तलाश है वह उसके हद्य में पहले से ही विद्यमान है” केवल मनुष्य को अपनी बाहर जाती हुई वृत्तियों​ को अंदर की ओर मोड़ने की जरूरत है जिसके लिए उसे ज्ञान की आवश्यकता है (Prem Rawat Shanti Ka Sandesh,Shanti Ka Anubhav)
यदि आप अपने हृदय में उस शांति को प्राप्त करना चाहते हैं तब मैं आपकी मदद कर सकता हूं- प्रेम रावत महाराज(Prem Rawat Maharaj)

Prem Rawat Maharaj ji biography jeevan parichay in Hindi(प्रेम रावत महाराज जी का जीवन परिचय) shanti ka anubhav(शांति का अनुभव)


Biography Prem Rawat Maharaj in Hindi प्रेम रावत महाराज जी(Prem Rawat Maharaj Ji) का जन्म 10 दिसंबर 1957 में हरिद्वार नामक स्थान पर भारत में हुआ उनके पिता जी उनके माननीय सद्गुरु भी थे एक सरल किंतु गहरे संदेश पर प्रेम रावत महाराज(Prem Rawat Maharaj) पूरे विश्व में लोगों से आंतरिक शांति पाने की संभावना के बारे में चर्चा करते हैं, उनका संदेश शब्दों से कई अधिक महत्वपूर्ण है जो कि जो लोग अपने जीवन में शांति को अपनाना चाहते हैं उन्हें वे एक विधि बताते हैं जिसे वे “ज्ञान” कहते हैं
उनके संदेश से प्रभावित लोग उन्हें महाराज जी कहकर संबोधित करते हैं उनका उद्देश्य यही रहा है कि वह हर एक व्यक्ति के हद्य में विधमान शांति का अनुभव कराने में उसकी मदद कर सके

प्रेम रावत महाराज जी का बचपन बायोग्राफी इन हिंदी Prem Rawat Maharaj ji ka Bachpan biography in Hindi aur uplabdhiya


Prem Rawat Maharaj ka Bachpan biography in Hindi( Jeevan Story) उनके पिता जी और माननीय सद्गुरु के लिए आयोजित कार्यक्रमों में उन्होंने ज्ञान के बारे में मात्र 3 वर्ष की उम्र से ही बोलना शुरु कर दिया था और 4 वर्ष की उम्र में उन्होंने अपने पहले सार्वजनिक कार्यक्रम को संबोधित किया, जब वे 8 वर्ष के हुए तब उन्होंने आशा और शांति से भरी इस संदेश को पूरे विश्व में जन जन तक पहुंचाने की जिम्मेवारी संभाली, जिसे वे आज भी कुशलतापूर्वक निभा रहे हैं वे है-प्रेम रावत महाराज(Prem Rawat Maharaj Inspiration man) 
प्रेम रावत महाराज(Prem Rawat Maharaj) केवल 9 वर्ष की उम्र में ही उन्होंने भारतवर्ष में बड़ी संख्या में लोगों को अपने संदेश से आकर्षित कर लिया था, स्कूल की छुट्टियों के दौरान उन्हें 13 वर्ष की उम्र में ही लंदन और लॉस एंजेलिस में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया, उसके बाद उन्हें निरंतर लगभग हर महाद्वीप से बोलने के लिए आमंत्रण आने लगेगा, तब से उन्होंने 80 से भी अधिक देशों के 250 शहरों में लोगों को संबोधित किया है

Prem Rawat Maharaj ke place invitation programme

सिडनी के ओपेरा हाउस, लंदन के रॉयल अल्बर्ट हॉल, न्यूयॉर्क के लिंकन सेंटर, बैंकॉक के यूनाइटेड नेशंस कॉन्फ्रेंस, विश्व के कई प्रसिद्ध यूनिवर्सिटीज तथा बिजनेस फोरम्स में उन्हें नियमित रूप से आमंत्रित किया जाता है जवाहरलाल नेहरु स्टेडियम दिल्ली भारत में हुए कार्यक्रम में 1 लाख 30 हजार श्रोताओं की रिकॉर्ड संख्या से यह स्टेडियम पहली बार खचा-खच भर गया था,उनके इस महान कार्य के लिए उन्हें संसार के कई शहरों की चाबियां सम्मान के रूप में प्रदान की गई है, उनके संदेश का अनुवाद 60 भाषाओं में किया जाता है जिसे 80 देशों में उपलब्ध कराया जाता है
प्रेम रावत महाराज का संदेश को अब तक 45 लाख से भी ज्यादा लोगों ने सुना है, श्रोताओं की लगातार बढ़ती हुई संख्या के बावजूद उनका संदेश प्रत्येक व्यक्ति को सही राह दिखाता है जो उनके संदेश को पढ़ते हैं या सुनने के लिए आते हैं- गुरु महाराज जी प्रेम रावत(guru Maharaj Ji Prem Rawat)
                                      

No comments:

Post a Comment